चार 'नगरसेवक' बने 'विधायक'

इन चारों नगरसेवकों के नाम है, शिवसेना के रमेश कोरगावकर, दिलीप लांडे, भाजपा से पराग शाह और सपा से रईस शेख। रईस ने भिवंडी से जीत दर्ज की है।

SHARE


मुंबई में चार ऐसे नगरसेवक हैं जिन्होंने विधायक का चुनाव लड़ा और वे जीत गए, यानी बीएमसी में बैठने वाले ये नगरसेवक अब विधायक बन कर असेंबली में बैठे नजर आएंगे। वैसे तो विभिन्न पार्टियों से  कुल 11 नगरसेवकों ने चुनाव लड़ा था लेकिन उनमें से मात्र चार लोगों का ही नसीब ने साथ दिया। इन चारों नगरसेवकों के नाम है, शिवसेना के रमेश कोरगावकर, दिलीप लांडे, भाजपा से पराग शाह और सपा से रईस शेख। रईस ने भिवंडी से जीत दर्ज की है। 

विधानसभा चुनाव के लिए मुंबई से कुल 11 नगरसेवक मैदान में थे। इनमें शिवसेना के 4, भाजपा के 1, कांग्रेस के 2, मनसे के 1, निर्दलीय 1, सपा से 1 और अखिल भारतीय सेना के 1 उम्मीदवार शामिल थे। शिव सेना की नगरसेविका राजुल पटेल को पार्टी से टिकट नहीं मिलने के कारण उन्होंने निर्दलीय पर्चा भरा था। जिन नगरसेवकों को पार्टी ने टिकट नहीं दिया था वे निर्दलीय लड़ रहे थे। विट्ठल लोकरे भी जो चुनाव के दौरान ही कांग्रेस छोड़क कर शिवसेना में आए थे और मानखुर्द शिवाजी नगर से चुनाव लड़ रहे थे। पार्टी से जिन्हें टिकट मिला था उनमें शिवसेना से विश्वनाथ महादेश्वर (बांद्रा पूर्व), रमेश कोरगांवकर (भांडुप पश्चिम), दिलीप लांडे (चंदिवली), संजय तुरडे(कलीना), रईस शेख (भिवंडी), गीता गवली (भायखला), पराग शाह (घाटकोपर), आसिफ ज़कारिया (बांद्रा पश्चिम) और जगदीश कुट्टी (अंधेरी पूर्व) के नाम शामिल हैं।

इन 11 नगरसेवकों में से शिवसेना के दिलीप लांडे, भांडुप से रमेश कोरगांवकर, घाटकोपर से भाजपा के पराग शाह और भिवंडी से सपा के रईस शेख ही विजयी चुने गए हैं बाकी सात लोगों को हार नसीब हुई।

यही नहीं इस चुनाव में छह पूर्व नगरसेवक भी ऐसे थे जिन्होंने अपनी किस्मत आजमाई। इसमें भायखला से पूर्व नगरसेवक यामिनी जाधव, कांग्रेस से सुरेश कोपरकर (भांडुप पश्चिम), अजंता यादव (कांदिवली पूर्व), भाजपा के बागी मुरजी पटेल (अंधेरी), मनसे से संदीप देशपांडे (माहिम) और एनसीपी से धनंजय पिसाल (विक्रोली) शामिल हैं लेकिन यामिनी को छोड़ कर बाकी सब हार गए।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें