मुझे ना कहे हिंदूहृदयसम्राट – राज ठाकरे

सोमवार को पार्टी पदाधिकारिय़ों के साथ हुई एक बैठक में राज ठाकरे ने पार्टी कार्यकर्ताओं को ये आदेश दिया

SHARE

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे (raj thackeray) ने कार्यकर्ताओं को नसीहत दी है की वह उन्हे  ‘हिंदूहृदयसम्राट’ (Hinduhrudaysamrat) कहकर ना बुलाये।  सोमवार को पार्टी पदाधिकारिय़ों के साथ हुई एक बैठक में राज ठाकरे ने पार्टी कार्यकर्ताओं को ये आदेश दिया। बांद्रा के रंगशारदा सभागृह में इस बैठक का आयोजन किया गया था।   

CAA पर समर्थन 

केंद्र सरकार के संशोधित नागरिकता (CAA) अधिनियम का समर्थन करने के लिए 9 फरवरी को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना एक भव्य मोर्चा निकालने जा रही है।  इस मार्च की रणनीति तय करने के लिए सोमवार को बांद्रा के रंगशारदा हॉल में मनसे पदाधिकारियों की एक बैठक हुई। इस बैठक में राज ठाकरे समेत एमएनएस के बड़े नेता बाला नंदगांवकर, नितिन सरदेसाई और अनिल शिदोरे भी शामिल हुए।  इस बैठक में राज ठाकरे ने पार्टी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों का मार्गदर्शन किया।  राज ठाकरे ने कार्यकर्ताओं को सलाह दी की उन्हे हिंदूहृदयसम्राट(Hinduhrudaysamrat) कहकर ना बुलाया जाये। 

10 मिनट के लिए ही उपस्थित रहे

इसके साथ ही राज ठाकरे ने पार्टी कार्यकर्ताओं से एक बार फिर कहा की पार्टी के झंडे पर जो राजमुद्रा है उसका अनादर नहीं किया जाना चाहिये।  इस बैठक में हालांकी राज ठाकरे सिर्फ 10 मिनट के लिए ही उपस्थित रहे जिसके बाद तबीत ठिक ना होने के कारण वह निकल गये।  राज ठाकरे ने 23 जनवरी को दिवंगत बालासाहेब ठाकरे की जयंती के मौके पर पार्टी का नया झंडा लॉन्च किया था। इस नये झंडे का रंग भगवा है और झंडे पर राजमुद्रा भी लगी है। इसके साथ ही राज ठाकरे ने साफ किया की CAA और NRC के मुद्दे पर केंद्र की मोदी सरकार का साथ देने के लिए मनसे 9 फरवरी को आजाद मैदान में एक विशाल मोर्चे का आयोजन करेगी।  

23 जनवरी को हुए अधिवेशन के बाद MNS के ठाणे जिला प्रमुख अविनाश जाधव (avinash jadhav) ने ठाणे के पार्टी केंद्रिय कार्यालय के बाहर ‘साहेबांचे खरे वारसदार हिंदूहृहयसम्राट राज ठाकरे’ (raj thackeray) नाम का बैनर लगाया था जिसपर शिवसेना नेता अनिल परब ने आपत्ति जताई थी।  

यह भी पढ़े- एनसीपी नेता ने खाया 10 रुपए वाला 'शिव भोजन' पीया 20 रुपए का पानी, मनसे ने कसा तंज

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें