अचानक देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार एक दूसरे के सामने आ गए, तो क्या हुआ?

सोलापुर में निर्दलीय विधायक संजय शिंदे के बेटे की शादी थी। इस मौके पर राज्य के कई बड़े-बड़े नेता आए हुए थे। अजित पवार भी थे और देवेंद्र फणनवीस भी।

SHARE


महाराष्ट्र में कुछ दिन पहले एनसीपी के नेता अजित पवार के सहयोग से बीजेपी के देवेंद्र फडणवीस सरकार बना ली थी, लेकिन तीन दिन बाद ही अजित पवार के द्वारा सरकार से इस्तीफा देने के बाद बीजेपी की सरकार गिर गयी और इसके बाद शिव सेना ने कांग्रेस और एनसीपी के साथ सरकार बनाई। इस घटनाक्रम से कयास लगाये जा रहे थे कि फडणवीस और अजित पवार के बीच दूरियां बढ़ गयी होंगी लेकिन रविवार को ऐसा कुछ दृश्य दिखा जिससे सभी हैरान रह गए।


सोलापुर में निर्दलीय विधायक संजय शिंदे के बेटे की शादी थी। इस मौके पर राज्य के कई बड़े-बड़े नेता आए हुए थे। अजित पवार भी थे और देवेंद्र फणनवीस भी। जब दोंनो एक दूसरे के सामने आए तो दोनों ने एक दूसरे के बड़ी ही गर्मजोशी के साथ स्वागत किया और करीब 20 मिनट तक साथ बैठ कर बातचीत भी की।


इनकी मुलाकात को देख कर यह अंदाजा बिलकुल भी नहीं लग रहा था कि कुछ दिन पहले ही अजित पवार के कारण फडणवीस सरकार बहुमत हासिल नहीं कर पाई और गिर गयी।


जब मुलाक़ात को लेकर पत्रकारों ने अजित पवार से बात की तो उन्होंने कहा, इस वैवाहिक कार्यक्रम में मुझे भी बुलाया गया था, मेरी कुर्सी ठीक देवेंद्र फडणवीस के बगल में लगाई गयी थी, तो ब्लग में बैठे होने के कारण हमारी बात हुई, हम केवल गप्पेबाजी कर रहे थे. 

अजित पवार चाहे कुछ भी कह रहे हो लेकिन इस मुलाक़ात को लेकर दिन भर चर्चा रही और सभी अपने-अपने तरीके से मतलब निकाल रहे थे।

पढ़ें: फ्लोर टेस्ट के पहले ही देवेंद्र फड़णवीस और अजित पवार ने दिया इस्तीफा

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें