'शिव स्मारक के टेंडर में घोटला, रद्द हो टेंडर' - धनंजय मुंडे


SHARE

मुंबई के अरब सागर में बन रहे छत्रपती शिवाजी महाराज स्मारक का काम शुरू होने के बाद यह विवादों में आ गया है। शिव स्मारक समिति के अध्यक्ष विनायक मेटे द्वारा मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को लिखा गया एक पत्र मीडिया के हाथ लग गया जो अब वायरल हो रहा है। यह पत्र वायरल होने के बाद विरोधी पक्ष नेता ने इस स्मारक को लेकर सरकार पर करप्शन का आरोप लगाया है। एनसीपी नेता और विधान परिषद् में विरोधी पक्ष के नेता धनंजय मुंडे ने इस ठेका को रद्द करने और इसकी न्यायीक जांच की मांग की है। 

अरब समुद्र में 16.86 हेक्टेयर की जगह में शिव स्मारक बनाने का काम बुधवार 24 अक्टूबर को शुरू हो गया है। यह काम छह महीने पहले शुरू होना था,लेकिन अब जाकर शुरू हुआ है।

वायरल हुए इस पत्र को मेटे ने पिछले महीने मुख्यमंत्री को लिखा था, इस पत्र में लिखा गया है कि स्मारक के काम के लिए जो टेंडर पास किये गए हैं उसमें कई आर्थिक अनियमितताएं हैं। इस मामले की जांच होनी चाहिए और संबंधित अधिकारियों को तत्काल निलंबित करना चाहिए।

अब इस पत्र के आधार पर मुंडे ने फडणवीस सरकार पर निशाना साधा है। मुंडे ने यह कह कर फडणवीस पर हमला किया कि मेटे के द्वारा इतनी गंभीर जानकारी देने पर भी सीएम ने कोई कार्रवाई क्यों नहीं की?

उन्होने आगे कहा कि स्मारक के टेंडर प्रक्रिया में करप्शन करके सरकार ने 11 करोड़ शिव भक्तो का अपमान किया है। इस टेंडर को तत्काल रद्द कर इसकी न्यायिक जांच कराइ जाए।

पढ़ें: शिवाजी स्मारक कार्य के दौरान समुद्र में बोट हुई दुर्घटनाग्रस्त, एक लापता

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें