शरद पवार को राष्ट्रपति बनाने के लिए सोनिया ने चला यह दांव...

 Mumbai
शरद पवार को राष्ट्रपति बनाने के लिए सोनिया ने चला यह दांव...
शरद पवार को राष्ट्रपति बनाने के लिए सोनिया ने चला यह दांव...
शरद पवार को राष्ट्रपति बनाने के लिए सोनिया ने चला यह दांव...
शरद पवार को राष्ट्रपति बनाने के लिए सोनिया ने चला यह दांव...
See all

इसी साल के जुलाई महीने में होनेवाले राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस (एनसीपी) अध्यक्ष शरद पवार को विपक्ष का उम्मीदवार बनाने की कवायद तेज़ हो गयी है। इस मामले में खुद कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने पहल की है। सूत्रों की जानकारी के अनुसार, शरद पवार को राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के पसंदीदा उम्मीदवार के रुप में सहमति बनाने के लिए सोनिया गांधी ने एक दूसरे का मुंह तक देखना पसंद न करनेवाले समाजवादी पार्टी के मार्गदर्शक मुलायम सिंह यादव और बहुजन समाज पार्टी की सर्वेसर्वा मायावती से बात की है। उत्तर प्रदेश में हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में सपा और बसपा बुरी तरह पिट गयी।

लेकिन राष्ट्रपति पद के चुनाव में सभी पार्टी के जनप्रतिनिधियों के मत का मूल्य होता हैं। ज़ाहिर है, संख्या की दृष्टि से तुलना में कम जनप्रतिनिधिवाले पार्टियों से मत का जुगाड़ किया जा रहा है। सोनिया गांधी की मुलायम सिंह और मायावती के साथ चर्चा के बाद अब कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्षा ममता बैैनर्जी और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से बात करनेवाले हैं। दूसरी ओर लेफ्ट के नेताओं ने पहले ही शरद पवार के नाम के लिए सहमती जतायी है।

राष्ट्रपति पद की रेस में शामिल न होने की बात शरद पवार कई बार कर चुके हैं। एनसीपी के पास इतने जनप्रतिनिधि नहीं हैं कि, पार्टी के अध्यक्ष राष्ट्रपतिपद के सपनें देख सकें, यह दलील पवार ने बेबाकी से दी है। साथ ही राष्ट्रपति पद के लिए अपनी दावेदारी को चर्चा में रखने की सूझबूझ भी उन्होंने दिखाई है। ‘मुंबई लाइव’ ने इससे जुड़ी खबर 24 अप्रैल को दी थी। इसके दो दिन बाद यानि 26 अप्रैल को शरद पवार ने सोनिया से उनके दिल्ली के आवास ‘10 जनपथ’ में मुलाकात भी की। इसके बाद संजोग कुछ ऐसा बना कि, सोनिया गांधी ने विपक्ष खेमे के नेताओं से चर्चा शुरु की।

यह भी पढ़ें- राष्ट्रपति का चुनाव निर्विरोध कराने का 'पॉवर' गेम, शिवसेना का शरद पवार को समर्थन

कहानी में ट्विस्ट भी है। शरद पवार के राष्ट्रपति पद के लिए नहीं, बल्कि उपराष्ट्रपति पद के लिए सोनिया गांधी कोशिश कर रही हैं, यह जानकारी गांधी परिवार के करीबी नेता ने दी हैं। सन् 1990 से देश के प्रधानमंत्री पद की कुर्सी शरद पवार के साथ आंख-मिचौली कर रही है। पचास साल में देश की राजनीति में आए तमाम उलटफेर के गवाह रहे शरद पवार ने अपने राजनैतिक पैंतरों से कई बार बड़े बड़ों को अचंभित किया है। फिलहाल इस संभावना को नकारा नहीं जा सकता कि, शरद पवार कोई नया ‘पॉवर गेम’ खेलें। या फिर यूं कहें कि, शरद पवार का नया पॉवर गेम देखने के लिए राजनैतिक विश्लेषक भी उत्सुक होंगे।

डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

Loading Comments