Advertisement

aarey carshed: समिति ने पेश की रिपोर्ट, कारशेड को आरे में ही बनाने का प्रस्ताव

रिपोर्ट में बताया गया है कि अगर कारशेड को आरे के बदले कांजुरमार्ग क्षेत्र में बनाया जाता है तो इससे लागत बढ़ेगी, सरकारी खजाने से हजारों करोड़ रुपये खर्च होंगे जिससे काफी आर्थिक बोझ बढ़ेगा,

aarey carshed: समिति ने पेश की रिपोर्ट, कारशेड को आरे में ही बनाने का प्रस्ताव
SHARES

 पूर्व मुख्यमंत्री और विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस (devendra fadnavis) ने मांग की है कि, आरे में बन रहे कारशेड (aarey car shed) पर लगो रोक को सरकार को तत्काल हटाना चाहिए, और वहां काम शुरू करना चाहिए। राज्य में जब महाविकास आघाड़ी की सरकार अस्तित्व में आई थी तो उस समय मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (cm uddhav thackeray) ने पूर्व सरकार के आदेश को पलटते हुए कारशेड के काम पर रोक लगाने का आदेश पारित किया था। बीजेपी सरकार में आरे में कारशेड बनाने के लिए लगभग 3 हजार से अधिक पेड़ काटे गये थे, जिसका स्थानीय लोगों सहित कई संगठनों और बॉलीवुड की हस्तियों ने भी विरोध किया था।

इस बारे में उद्धव ठाकरे ने 4 सदस्यीय एक समिति का गठन किया था, जिसे यह काम सौंपा गया था कि क्या कारशेड को मुंबई के अन्य किसी भी स्थान पर बनाया जा सकता है? अब इस समिति ने अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंप दिया है।

समिति ने अपनी रिपोर्ट मंगलवार को मुख्यमंत्री के अतिरिक्त अतिरिक्त मुख्य सचिव (अर्थ) मनोज सौनिक (manoj saunik) को भी सौंपी। रिपोर्ट में बताया गया है कि अगर कारशेड को आरे के बदले कांजुरमार्ग क्षेत्र में बनाया जाता है तो इससे लागत बढ़ेगी, सरकारी खजाने से हजारों करोड़ रुपये खर्च होंगे जिससे काफी आर्थिक बोझ बढ़ेगा, साथ ही समय भी काफी खर्च होगा। यही नहीं यह रिपोर्ट कारशेड पर लगे स्टे को भी हटाने की सिफारिश करती है। अब इस रिपोर्ट से एक बार फिर बीजेपी को सत्ता पक्ष पर हमला करने का अवसर दे दिया है। जिसके बाद फडणवीस कारशेड से स्टे को तत्काल हटाने की मांग की।

पढ़ें: आरे मेट्रो कारशेड पर रोक- उद्धव ठाकरे

इस बाबत देवेंद्र फड़नवीस ने कहा, राज्य सरकार ने एक समिति का गठन कर आरे के कारशेड के लिए एक वैकल्पिक स्थान खोजने का कार्य दिया गया था। अब इसकी रिपोर्ट आ गयी है, जिसमें समिति ने कहा है कि, मेट्रो 3 के कारशेड के लिए आरे ठीक जगह है। इसीलिए मेरी मांग है कि राज्य सरकार को आरे कारशेड पर लगे स्टे को तत्काल हटाना चाहिए और तुरंत काम शुरू करना चाहिए।  काम के रुकने के कारण राज्य सरकार को हर दिन 2 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है।  

इस रिपोर्ट को लेकर पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि, समिति द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट सीएमओ कार्यालय (cmo) तक पहुंच गई है। इस रिपोर्ट को अभी तक मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने देखा नहीं है। इस रिपोर्ट का ठीक से अध्ययन करने के बाद ही कारशेड के बारे में अंतिम निर्णय लिया जाएगा। ठाकरे ने कहा कि पर्यावरण को नुकसान पहुंचाए बिना राज्य का विकास करना सरकार की नीति थी और सरकार ने इन्हीं सब बातों को ध्यान में रख कर ही सभी फैसले ले रही है। 

पढ़ें: 'आरे में कारशेड के अलावा कई प्रस्तावित प्रोजेक्ट बनने हैं'

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें