शिवसेना के बड़े नेताओं पर गिरेगी गाज़? पार्टी में हो सकता है बड़ा फेरबदल

Mumbai
शिवसेना के बड़े नेताओं पर गिरेगी गाज़? पार्टी में हो सकता है बड़ा फेरबदल
शिवसेना के बड़े नेताओं पर गिरेगी गाज़? पार्टी में हो सकता है बड़ा फेरबदल
शिवसेना के बड़े नेताओं पर गिरेगी गाज़? पार्टी में हो सकता है बड़ा फेरबदल
शिवसेना के बड़े नेताओं पर गिरेगी गाज़? पार्टी में हो सकता है बड़ा फेरबदल
शिवसेना के बड़े नेताओं पर गिरेगी गाज़? पार्टी में हो सकता है बड़ा फेरबदल
See all
मुंबई  -  

मुंबई - गुरुवार शाम को अगर शिवसेना के कुछ बड़े नेताओं के चेहरों पर हंसी और कुछ नेताओं के चेहरे पर मायूसी दिखे तो हैरानी की कोई बात नहीं। विधिमंडल में शिवसेना का प्रतिनिधित्व करनेवाले विधायकों की जिम्मेदारी बदले जाने की खबरें राजनिती गलियारों में सुनाई दे रही हैं।

बताया जा रहा है की गुरुवार शाम को होनेवाली इस बैठक में शिवसेना के वरिष्ठ नेता और राज्य के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते से विधान परिषद में पार्टी के गटनेता का पद छिना जा सकता है। रावते की जगह पर ये कमान अनिल परब को दी जा सकती है। अनिल परब को शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे का काफी करिबी माना जाता है। उद्धव ठाकरे ने पार्टी के सभी विधायक और मंत्रियों को गुरुवार शाम 'मातोश्री' पर बैठक के लिए बुलाया है।

यह भी पढ़ेकिसानों की कर्जमाफी को लेकर शिवसेना आक्रामक


इस बैठक में नए संगठनात्मक बदलाव की घोषणा की जा सकती हैं। साथ ही उन शिवसेना मंत्रियों को मंत्री पद भी गवांना पड़ सकता है जिसका परफॉर्मेंस अच्छा नहीं है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, दिवाकर रावते, सुभाष देसाई, रामदास कदम, डॉ. दीपक सावंत और दीपक केसरकर में से किसी को भी मंत्रीपद की जिम्मेदारी से मुक्त किया जा सकता हैं। तो वही कुछ मंत्रियों को काम में सुधार लाने की हिदायत भी दी जा सकती है। ज्यादातर मंत्री विधान परिषद के सदस्य है, जिसके कारण जनता द्वारा चुने गए विधायक तो विधानसभा सदस्य है वह भी मंत्रिपद ना मिलने से नाराज है।

यह भी पढ़े- उद्धव ठाकरे लेंगे शिवसेना मंत्री-विधायकों की हाजरी

बदलाव करते समय पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे को यह बात भी ध्यान में रखनी होगी की नये चेहरों को जिम्मेदारी देने के बाद कई पूराने चेहरे और वरिष्ठ नेतओं में नाराजगी ना फैले। उद्धव ठाकरे ने कुछ विधायकों को पार्टी के थिंक टैंक में अहम पद, कुछ विधायको को पार्टी के अहम पद तो वही वरिष्ठ नेता के लिए राज्यपाल पद के लिए मुख्यमंत्री के साथ साथ केंद्र सरकार को भी सिफारिश करने की योजना तैयार की है।

राज्य परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने मुंबई लाइव से बात करते हुए ऐसे किसी भी तरह की बैठक की खबरों का खंडन किया।

 "उद्धव ठाकरे ने ऐसी कोई भी बैठक नहीं बुलाई है, और ना ही किसी मंत्री को इस बात की जानकारी है, ये खाली मीडिया की बातें है "। -राज्य के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते

हालांकि, राज्य मंत्रिमंडल के तीन मंत्रियों और कुछ विधायकों ने गुरुवार शाम को बुलाई गई बैठक की पुष्टी की हैं।

Loading Comments

संबंधित ख़बरें

© 2018 MumbaiLive. All Rights Reserved.