बेस्ट हड़ताल के दौरान पैरालाइसिस का झटका आया, अब हुई मौत

खारघर में रहने वाले वाघमारे शुक्रवार को देवनार डेपो के लिए हड़ताल में शामिल होने के लिए घर से सुबह 3 बजे निकले थे। डेपो पहुंचने के बाद 8 बजे के लगभग उन्हें पैरालाइसिस का झटका आया।

SHARE

बेस्ट हड़ताल के दौरान जिस कर्मचारी रवींद्र काशीनाथ वाघमारे (42) को पैरालाइसिस (पक्षाघात) का झटका आया था उसकी इलाज के दौरान मौत हो गयी। वाघमारे का इलाज पिछले एक हफ्ते से सायन अस्पताल में चल रहा था। आपको बता दें कि बेस्ट  हड़ताल के चौथे दिन वाघमारे को अचानक पैरालाइसिस का अटैक आ गया था। वाघमारे देवनार डेपो में काम करते थे।  

बताया जाता है कि खारघर में रहने वाले वाघमारे शुक्रवार को देवनार डेपो के लिए हड़ताल में शामिल होने के लिए घर से सुबह 3 बजे निकले थे। डेपो पहुंचने के बाद 8 बजे के लगभग उन्हें  पैरालाइसिस का झटका आया। जिसके बाद उन्हें गोवंडी अस्पताल  में दाखिल कराया गया लेकिन स्थिति गंभीर होने के चलते डॉक्टरों ने उन्हें सायन अस्पताल भेज दिया। इस झटके से उनका बायां अंग काफी प्रभावित हुआ था।

लेकिन एक हफ्ता इलाज के बाद रविवार को उन्होंने अंतिम सांस ली। उनके घर में उनकी पत्नी और डेढ़ साल की बच्ची और एक भाई है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें