Advertisement

आम जनता के लिए लोकल चालू न होने के कारण मेट्रो में यात्रियों की संख्या घटी

7 महीने के बाद, जब घाटकोपर से वर्सोवा के लिए मेट्रो 1 सेवा 19 अक्टूबर से शुरू हुई, तो यात्रियों की संख्या एक सप्ताह के भीतर दोगुनी हो गई।

आम जनता के लिए लोकल चालू न होने के कारण मेट्रो में यात्रियों की संख्या घटी
SHARES

आम जनता के लिए मुंबई (Mumbai) लोकल ट्रेन बंद है, इसका परिणाम मुंबई मेट्रो में भी देखने को मिल रहा है। मुंबई मेट्रो के यात्रियों की संख्या में कमी दर्ज की गई है। घाटकोपर से वर्सोवा के लिए मेट्रो 1 की सेवा शुरू होते ही महीने भर के भीतर यात्रियों की संख्या तीन गुना से भी अधिक हो गई थी। पर वर्तमान में आम यात्रियों के लिए लोकल सर्विस शुरु न होने के कारण अपेक्षित यात्रियों की संख्या कमी दर्ज की गई है। 

7 महीने के बाद, जब घाटकोपर से वर्सोवा के लिए मेट्रो 1 सेवा 19 अक्टूबर से शुरू हुई, तो यात्रियों की संख्या एक सप्ताह के भीतर दोगुनी हो गई। कोरोना से पहले एक समय में मेट्रो ट्रेन में औसत यात्री लगभग 1,350 हेते थे। लेकिन अब कोरोना (Coronavirus) के मद्देनजर बैठक व्यवस्था में कई बदलाव किए गए हैं। इसलिए, वर्तमान में एक बार में केवल 360 यात्री ही यात्रा कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: कोरोना के साथ ही मलेरिया, गैस्ट्रो व लेप्टो के मरीजों में भी बढ़ोतरी

मेट्रो 1 पर प्रति दिन 200 राउंड यात्राएं होती हैं और लगभग 72,000 यात्रियों की उम्मीद की जाती है। मेट्रो 1 प्रशासन ने उम्मीद की कि यह संख्या कम से कम 60,000 से अधिक होगी। पर प्रतिदिन केवल 45,000 यात्री इस सेवा का लाभ उठा रहे हैं।

मुंबई लोकल सेवा द्वारा नियमित अंतराल पर महिलाओं को यात्रा करने की अनुमति देने के बाद यात्रियों की संख्या में कुछ वृद्धि हुई है। हालांकि, रेलवे द्वारा अभी तक सभी को यात्रा करने की अनुमति नहीं है। कोरोना से पहले लगभग 4 लाख यात्रियों ने दैनिक मेट्रो का उपयोग किया। जिसमें से 2 लाख यात्री घाटकोपर और अंधेरी स्टेशनों से यात्रा कर रहे थे।

यह भी पढ़ें: मुंबई में बढ़ रहे हैं कोरोना के केस, ट्रेंन में हो रही है भीड़ सरकार के लिए बनी परेशानी

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय