Advertisement

रेलवे के आरक्षित डब्बों में न मास्क न सोशल डिस्टेंसिंग का हो रहा पालन

कोरोना वायरस के संक्रमण का संकट दिन-प्रतिदिन गंभीर होता जा रहा है, बावजूद इसके यात्रियों की यह लापरवाही कईयों के लिए भारी पड़ सकती है। वहीं देखा जाए तो रेलवे विभाग ने अभी तक यात्री ट्रेनें शुरू नहीं की हैं। सिर्फ अभी स्पेशल ट्रेनें चल रही हैं।

रेलवे के आरक्षित डब्बों में न मास्क न सोशल डिस्टेंसिंग का हो रहा पालन
SHARES

राजधानी एक्सप्रेस समेत अन्य 12 पूरी तरह से आरक्षित ट्रेनें मुंबई सेंट्रल रेलवे स्टेशन से चल रही हैं। आरक्षित डिब्बों में यात्री ना तो फेस मास्क का इस्तेमाल कर रहे हैं और न ही शारीरिक दूरी का पालन हो रहा है। कोरोना वायरस के संक्रमण का संकट दिन-प्रतिदिन गंभीर होता जा रहा है, बावजूद इसके यात्रियों की यह लापरवाही कईयों के लिए भारी पड़ सकती है। वहीं देखा जाए तो रेलवे विभाग ने अभी तक यात्री ट्रेनें शुरू नहीं की हैं। सिर्फ अभी स्पेशल ट्रेनें चल रही हैं।

वर्तमान में, मुंबई सेंट्रल रेलवे स्टेशन से 13 ट्रेनें प्रतिदिन आती और जाती हैं। इनमें सौराष्ट्र मेल, गोल्डन टेंपल, अवंतिका, जयपुर सुपर, नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस, वलसाड लोकल, फ्लाइंग रानी, अगस्त क्रांति निजामुद्दीन, कर्णावती, डबलडेकर, तेजस (अहमदाबाद), शताब्दी, दिल्ली डोरंटो शामिल हैं।

निरीक्षण करते समय कि क्या यात्री सामाजिक दूरी और मास्क का पालन कर रहे हैं, यह देखा गया कि उनमें से कई नियमों का उल्लंघन कर रहे थे। साथ ही यह भी देखा गया है कि रेलवे विभाग कार्रवाई की उपेक्षा करता नजर आया।

  • जाने वाली ट्रेनें 13
  • आने वाली ट्रेने 13
  • टोटल ट्रेन 26

मुंबई सेंट्रल से छूटने वाली ट्रेनें

  • सौराष्ट्र मेल ओखांत
  • गोल्डन टेम्पल अमृतसर
  • अवंतिका इंदोर एक्स्प्रेस
  • जयपूर सुपर जयपूर एक्स्प्रेस
  • वलसाड लोकल एक्स्प्रेस
  • फ्लाईग राणी सुपरफास्ट एक्स्प्रेस
  • ऑगस्ट क्रांती निझामुद्दीन
  • कर्णावती एक्स्प्रेस
  • डबलडेकर एक्स्प्रेस
  • तेजस(अहमदाबाद)एक्स्प्रेस
  • शताब्दी एक्स्प्रेस
  • दिल्ली दोरंतो एक्स्प्रेस
  • नवी दिल्ली राजधानी एक्स्प्रेस

बिना मास्क पर कोई कार्रवाई नहीं

नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे कुछ यात्रियों के चेहरों को देखा गया जोकि बिना मास्क के थे।  रेलवे विभाग की टीम से मामले की जांच करने और कार्रवाई करने की उम्मीद की जाती है। हालांकि, इस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। नागरिक भी असंबद्ध हैं और खुद को कोरोना से बचाने के लिए कोई पहल नहीं कर रहे हैं। पर अगर स्थिति ऐसी ही रही तो कोरोना और भी बलवान हो सकता है। जो हमारे लिए और पूरे देश के लिए घातक सिद्ध हो सकता है। 

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें