Coronavirus cases in Maharashtra: 332Mumbai: 167Pune: 37Islampur Sangli: 25Nagpur: 16Pimpri Chinchwad: 12Kalyan-Dombivali: 9Thane: 9Navi Mumbai: 8Ahmednagar: 8Vasai-Virar: 6Yavatmal: 4Buldhana: 3Satara: 2Panvel: 2Kolhapur: 2Ulhasnagar: 1Aurangabad: 1Ratnagiri: 1Sindudurga: 1Pune Gramin: 1Godiya: 1Jalgoan: 1Palghar: 1Nashik: 1Gujrat Citizen in Maharashtra: 1Total Deaths: 12Total Discharged: 39BMC Helpline Number:1916State Helpline Number:022-22694725

ई चालान न भरने पर भी लगाने होंगे कोर्ट के चक्कर

ट्रैफिक पुलिस ने उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई शुरु कर दी है जिन्होने ई चलान का भूगतान नहीं किया है

ई चालान न भरने पर भी लगाने होंगे कोर्ट के चक्कर
SHARE

ट्रैफिक पुलिस ने उस चालक के खिलाफ अब कार्रवाई शुरु कर दी है।  ट्रैफिक पुलिस ने उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई शुरु कर दी है जिन्होने  ई चलान का भूगतान नहीं किया है। पुलिस ने ई चलान का भूगतान ना करनेवालों को अब नोटिस जारी करना शुरु कर दिया है।  पुलिस ने अब ऐसे लोगों को कोर्ट का नोटिस भेजना शुरु किया है।  सप्ताह के दौरान, कुल 5 ड्राइवरों को सूचित किया गया और अगली कठोर कार्रवाई के बारे में बताया गया। पुलिस के अलर्ट के बाद, कई ड्राइवरों ने जुर्माना भरना शुरू कर दिया है।

 ई चलान का भूगतान  नहीं तो  कोर्ट की कार्रवाई 

नियम तोड़ने वाले ड्राइवरों को ई-चलान प्रणाली में दंड का भुगतान करने के लिए मजबूर नहीं किया जाता है।  वाहन के दस्तावेज या लाइसेंस जब्त नहीं किये जाते हैं। इसलिए, ड्राइवर ई-चलान  द्वारा किए गए जुर्माना का भुगतान करने के लिए गंभीर नहीं हैं। परिणामस्वरूप, इस प्रणाली के लागू होने पर नियम तोड़ने वालों के चालान भेजने की दर में वृद्धि हुई। हालांकि, ई-चलान की व्यापकता और एकत्र किए गए दंड स्थिर रहे। पुलिस ने ऐसे लोगों को नोटिस भेजकर कहा है की ई चलान का भूगतान अगर नहीं करते है तो ऐसे लोगों को कोर्ट की कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा।  15 नवंबर तक जिन लोगों ने अपने ई चलान का भूगतान नहीं किया है उन लोगों के मामले को कोर्ट में भेजने की बात भी पुलिस ने की है


पुलिस के इस नोटिस के बाद ई-चालान का भुगतान करने के लोग अब आगे आ रहे है।ट्रैफिक पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, 5 हजार से भी अधिक ड्राइवरों को पांच हज़ार या उससे अधिक का जुर्माना लगाया गया, उन्हें संक्षिप्त रूप से सूचित किया गया और आगे की कठोर कार्रवाई के बारे में बताया गया।  अधिकारी ने कहा कि मामले को अदालत में भेजने का फैसला, जिसमें 20000 रुपये या उससे अधिक का जुर्माना है, को प्राथमिकता दी जाएगी

यह भी पढ़े- किशोरी पेडनेकर बनेगी मुंबई की नई मेयर

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें