Advertisement

रेलवे के सीजन पास की वैलिडिटी को बढ़ाई जाए, रेलवे प्रवासी संगठन की मांग

इस बारे में उपनगरीय रेलवे प्रवासी एकता संस्था के अध्यक्ष नंदकुमार देशमुख का कहना है कि, इस बारे में हमनें रेलवे बोर्ड से पत्र व्यवहार किया है और जल्द ही इस पर निर्णय लेने की मांग की है।

रेलवे के सीजन पास की वैलिडिटी को बढ़ाई जाए, रेलवे प्रवासी संगठन की मांग
SHARES
Advertisement

कोरोना महामारी के कारण राज्यभर में लॉकडाउन घोषित किया गया है। इस लॉकडाउन के कारण पिछले 3 महीने से लोकल ट्रेनें बंद की गईं हैं। अब ऐसे भी हजारों यात्री होंगे जिन्होंने सीजन पास निकाला होगा और इस समय भी वैध होगा, लेकिन ट्रेनें बंद होने के कारण उनका पास किसी काम का नहीं रह गया होगा, जबकि इस पास के लिए उन्होंने भुगतान किया होगा।

यात्रियों की इसी परेशानी को देखते हुए रेलवे प्रवासी संगठन ने मांग की है कि रेलवे सीजन पास की वैलिडिटी को बढ़ाए।

संगठन का कहना है कि, एक्सप्रेस और मेल ट्रेनों के टिकट जो कैंसिल हुए हैं उनका भी रिफंड हो रहा है, इसीलिए पास की वैलिडिटी को भी बढ़ानी चाहिए। ताकि इस संकट के समय लोगों को परेशानी का सामना न करना पड़े।

आंकड़ों के अनुसार लगभग 75 लाख यात्री उपनगरीय लोकल ट्रेन सेवा का लाभ उठा रहे हैं। लोकल ट्रेनों के तीनों मार्गों यानी पश्चिम, सेंट्रल और हार्बर के लाखों यात्रियों ने मंथली, तिमाही और छमाही सीजन पास निकाला होगा। लेकिन अब लॉकडाउन के कारण इन पासों की वैलिडिटी समाप्त हो गयी होगी या हो जाएगी, इसलिए समाप्त होने वाले पासों की वैलिडिटी रेलवे विभाग को बढ़ाना चाहिए।

इस बारे में उपनगरीय रेलवे प्रवासी एकता संस्था के अध्यक्ष नंदकुमार देशमुख का कहना है कि, इस बारे में हमनें रेलवे बोर्ड से पत्र व्यवहार किया है और जल्द ही इस पर निर्णय लेने की मांग की है।

तालाबंदी के दौरान रेलवे कर्मचारियों को असुविधा न हो इसके लिए रेलवे प्रशासन की तरफ से एक दो ट्रेनें चलाई जा रही हैं। लेकिन कोरोना को देखते हुए सामाजिक दूरी का पालन करना अनिवार्य हो गया है।  हालांकि, कई यात्री भी इन ट्रेनों से यात्रा करते हैं, जिसके बाद रेलवे कर्मचारियों ने आपत्ति जताया और यात्रियों को रोकने की मांग की, लेकिन रेलवे की तरफ से कोई कार्रवाई न होती देख कर्मचारियों ने सोमवार को विद्याविहार स्टेशन पर ट्रेन को रोक कर विरोध प्रदर्शन किया।

संबंधित विषय
Advertisement