Advertisement
COVID-19 CASES IN MAHARASHTRA
Total:
54,05,068
Recovered:
48,74,582
Deaths:
82,486
LATEST COVID-19 INFORMATION  →

Active Cases
Cases in last 1 day
Mumbai
34,288
1,240
Maharashtra
4,45,495
26,616

मनसे की पहल से ऑटो मालिकों को लॉकडाउन पीरियड में लोन भरने में मिलेगी छूट

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के इन दोनों अधिकारियों ने बताया कि, MNS के विरोध के चलते बजाज फाइनेंस ने अपने 1,19,743 ऑटो कर्ज धारकों को वित्तीय राहत देने के लिए मजबूर होना पड़ा।

मनसे की पहल से ऑटो मालिकों को लॉकडाउन पीरियड में लोन भरने में मिलेगी छूट
SHARES

रिक्शा चालकों (auto driver) के लिए खुशखबरी है। कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण मुंबई (mumbai) सहित पूरे देेश में तालाबंदी यानी लॉकडाउन (lockdown) घोषित किया गया है। इस लॉकडाउन (lockdown) के कारण कई लोग अपनी नौकरी, रोजगार, उद्योग धंदे गंवा चुके हैं और वित्तीय संकटों (finance crisis) का सामना कर रहे हैं। इसी कड़ी में  महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) ने आर्थिक संकट से उबारने के लिए रिक्शा चालकों को न्याय देने की पहल की है। लॉकडाउन (lockdown) के कारण राज्य में 5 महीने तक रिक्शा मालिकों की ऑटो नहीं चली, जिससे उनके उन्हें कोई वित्तीय आय भी नहीं मिल रही थी। ऐसी स्थिति में, उन पर रिक्शा का लोन चुकाने के लिए बैंक वाले किश्त भरने का दबाव डाल रहे हैं। इस तरह की कई शिकायतें महाराष्ट्र नवनिर्माण वाहतुक सेना के पास आई थीं।

इस संबंध में, MNS ने पहले बजाज कंपनी को पत्र लिख ऑटो ऋण के लिए ग्राहकों के साथ सहयोग करने को कहा, फिर गोरेगांव में बजाज फाइनांस के ऑफिस जाकर वहां सहयोग की बात कही, अन्यथा विरोध करने की चेतावनी दी।

इसके बाद बजाज फाइनांस (bajaj finance) के अधिकारियों और एमएनएस (MNS) के संजय नाइक और कीर्तिकुमार शिंदे के बीच दो बार बैठक हुई। जिसके बाद बजाज फाइनेंस (Bajaj finance) ने एमएनएस द्वारा सुझाई गई योजना को मंजूरी दे दिया।

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के इन दोनों अधिकारियों ने बताया कि, MNS के विरोध के चलते बजाज फाइनेंस ने अपने 1,19,743 ऑटो कर्ज धारकों को वित्तीय राहत देने के लिए मजबूर होना पड़ा। इस मामले में गुरुवार देर शाम को कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों ने एमएनएस को योजना का लिखित पत्र भी सौंप दिया।

यह योजना इस प्रकार है:

  • मार्च 2020 से अगस्त 2020 के बीच चार्ज किए गए चेक को ईसीएस संवितरण शुल्क (बाउंस शुल्क) और अन्य अतिदेय शुल्कों (दूसरे ओवरड्यूज शुल्क) की कुल राशि में से 50% राशि 30 सितंबर, 2020 तक या उससे पहले माफ कर दिया जाएगा।
  • यदि ग्राहक सितंबर 2020, अक्टूबर 2020 और नवंबर 2020 में ऋण की किस्त की तारीख पर या उससे पहले ईएमआई का भुगतान करता है, तो बकाया राशि का 50 प्रतिशत माफ कर दिया जाएगा। यह दिसंबर 2020 के महीने में संबंधित ऋण खाते में दिखाई देगा।
  • बजाज ऑटो फाइनेंस के मुंबई और ठाणे के ग्राहकों के लिए, सितंबर 2020 के महीने के लिए चेक - ईसीएस बाउंस चार्ज माफ किए जाएंगे।

महाराष्ट्र नवनिर्माण वहातुक सेना के अनुरोध पर, बजाज फाइनेंस ने उन ग्राहकों के लिए यह विशेष पेशकश की है, जिन्होंने फरवरी 2020 तक बिना किसी बकाया के मोरेटोरियम पॉलिसी का लाभ उठाया है।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
Advertisement
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें