ख़त्म हुआ सस्पेंस, शिव सेना ने सरकार बनाने का पेश किया दावा, एनसीपी और कांग्रेस समर्थन देने को तैयार

विचारधारा अलग-अलग होने के बाद भी सरकार बनाने के लिए कांग्रेस ने शिवसेना को बाहर से समर्थन देने की बात मान ली है। इसके बाद शिव सेना ने राज्यपाल से मिल कर महाराष्ट्र में सरकार बनाने के दावा पेश किया।

SHARE


महाराष्ट्र में सियासी ड्रामा धीरे-धीरे अंजाम की तरफ बढ़ता दिख रहा है। खबर है कि विचारधारा अलग-अलग होने के बाद भी सरकार बनाने के लिए कांग्रेस ने शिवसेना को बाहर से समर्थन देने की बात मान ली है। इसके बाद शिव सेना ने राज्यपाल से मिल कर महाराष्ट्र में सरकार बनाने के दावा पेश किया। शिव सेना नेता एकनाथ शिंदे, आदित्य ठाकरे, दिवाकर रावते, अनिल परब और सुभाष देसाई आज शाम को राज भवन पहुंच कर राज्यपाल से मुलाकात की और सरकार गठन का दावा पेश किया।  

इसके पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार को फोन करके इस बात की जानकारी दी। यही नहीं इस बात की भी खबर है कि कांग्रेस ने इसके बदले विधानसभा में स्पीकर का पद मांगा है।

पढ़ें: संजय राउत ने दिये संकेत , शिवसेना कांग्रेस से ले सकती है समर्थन!

सोमवार को कांग्रेस, एनसीपी और शिव सेना की दिन भर बैठक, मुलाकातों कर दौर चला। दोपहर के समय शिव सेना के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे और उनके बेटे आदित्य ठाकरे साथ में शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत खुद एनसीपी सुप्रीमों शरद पवार से मिले। इस मुलाकात के दौरान उद्धव ने पवार से सरकार गठन को लेकर उनसे समर्थन की मांग की।

यही नहीं महाराष्ट्र कांग्रेस के सीनियर नेताओं ने दिल्ली जाकर सोनिया गांधी और अन्य बड़े नेताओं के साथ बैठक की। इस बैठक में शिव सेना को समर्थन देंने के मुद्दे पर चर्चा की गई। सूत्रों के अनुसार आखिर ना-नुकुर के बाद सोनिया गांधी मान गयीं और उन्होंने शिव सेना को बाहर से समर्थन देने की बात कही। 44 से से 40 विधायकों ने शिव सेना को समर्थन देने की बात कही।

कुछ दिन पहले शिव सेना को समर्थन देने के मुद्दे पर शरद पवार सोनिया गांधी से मुलाकात कर चुके थे, लेकिन सोमवार को सोनिया ने इस पर मुहर लगा दी। सोनिया ने जयपुर में मौजूद अपने विधायकों से भी बात की थी और बाहर से समर्थन देने के लिए उन्हें राजी किया, लेकिन विधायकों ने महाराष्ट्र सरकार में शामिल होने की भी बात कही है।

पढ़ें: उद्धव ठाकरे ने शरद पवार से की मुलाकात, सरकार गठन के लिए मांगा समर्थन

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें