ईवीएम मशीन से बीजेपी को हुआ नुकसान- मुख्यमंत्री


SHARE

पालघर उपचुनाव के रिजल्ट जारी होने के बाद एक तरह जहां शिवसेना ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी हार का ठीकरा ईवीएम, चुनाव आयोग और बीजेपी सरकार के धन बल पर फोड़ा तो दूसरी तरफ शिवसेना के जवाब में बीजेपी की तरफ से खुद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मोर्चा संभालते हुए प्रेस कोंफ्रेस किया। लेकिन अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में फडणवीस ने पूरी तरह से उद्धव और गठबंधन के प्रति सकारात्मक रुख अपनाए रखा। उन्होंने कहा कि गठबंधन के लिए हम शिवसेना से बातचीत के लिए तैयार हैं।  



शिवसेना से बातचीत को हैं तैयार
पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि गठबंधन से दोनों पार्टियों को ही लाभ होगा। गठबंधन को लेकर हमारी तरफ से कोई अड़चन नहीं। आपस में लड़ना ठीक नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि हमने विधान परिषद की 6 सीटों के लिए हुए चुनाव में हमनें अपनी परभणी सीट शिवसेना के लिए छोड़ दी थी। हमारी तरफ से अब भी गठबंधन को लेकर इंकार नहीं है, लेकिन यह एकतरफा नहीं हो सकता। हम शिवसेना से बातचीत के लिए तैयार है।


खुद ईवीएम पर उठाया सवाल  
 कहा कि यह आरोप बेबुनियाद है कि बीजेपी ने ईवीएम में छेड़छाड़ की है आगे ऐसा होता तो हम गोंदिया नहीं हारते। मुख्यमंत्री ने कहा कि पालघर व भंडारा-गोंदिया उपचुनाव के दौरान मतदान के वक्त इलेट्रानिक वोटिंग मशीन (EVM) खराब होने से सबसे ज्यादा भाजपा का नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग को गड़बड़ी वाली इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीनों की जांच करानी चाहिए।


 वनगा परिवार के लिए दरवाजे खुले 
देवेंद्र फडणवीस ने अपने सांसद के बेटे को टिकट देते हुए शिवसेना पर नाराजगी प्रकट करते हुए कहा कि चिंतामणि वनगा बीजेपी के वरिष्ठ नेता थे। उनके परिवार बीजेपी के दरवाजे हमेशा से ही खुले हुए हैं। आपको बता दें कि चिंतामणि वनगा के पुत्र श्रीनिवास वनगा को शिवसेना ने अपना उम्मीदवार घोषित किया था।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें